Copper Vessels

क्यों करे ताम्र जल का सेवन (Benefits of drinking water from a copper vessel)

हममे से बहुत लोगो ने सुना होगा कि ताँबे के बर्तनो मे पानी पीना चाहिये | हमारे दादा परदादा अक्सर ताँबे के लोटे मे पानी पिया करते थे यहाँ तक कि पुराने समय मे बड़े बड़े ताँबे के घड़े पानी रखने के लिये उपयोग मे लाये जाते थे | ताँबे के पात्रो मे पानी रखने और उससे पीने पर जोर क्यो दिया जाता था, क्या इसके पीछे कोई वैज्ञानिक कारण था या कि ये बस एक अन्‍धविश्वाश है? आइये जानते है |

हमारे आयुर्वेद के अनुसार ताँबे मे रखा पानी हमारे शरीर के ३ दोषो (वात्, क़फ और पित्त) से लड़ने कि क्षमता देता है क्योंकि ताँबा पानी को धनात्मक विद्युत से आवेशित (Positively Charged) कर देता है |

उपयोगिता

ताम्र पात्र मे एकत्रित पानी “ताम्र जल” के नाम से जाना जाता है | कम से कम ८ घंटे पानी को ताम्र पात्र मे रखने के बाद पीना चाहिये क्योंकि इस दौरान ताँबे कि सारी सकारात्मक गुण पानी मे धीरे धीरे घुलते रहते है | एक और लाभ है ताँबे के बर्तन मे रखा पानी हम लम्बे समय तक उपयोग कर सकते है क्योंकि पानी मे कोई अशुध्धी और बांसीपन नही आता |

ताम्र जल बैक्टीरिया से लड़ने मे भी सहायक है मुख्य रूप से ई.कोली (E.coli) और स.ऑरेयौस (S.aureus) से | ई.कोली सामान्यतः छोटी आँत मे पाया जाता है, ज्यादातर यह हानि रहित होते है पर कुछ गंभीर बिमारी पैदा कर सकते जिसमे फूड पाइज़निंग प्रमुख है |

इसके अलावा ताम्र जल पेट कि बीमारियों से लड़ने मे सहायक होती है | गैस, पेट मे जलन, बदहजमी, और पेट कि आदि बिमारिया ताम्र जल के नियमित उपयोग से दूर हो सकती है | साथ साथ ये हृदय, त्वचा, जोड़ों के दर्द, रक्त हीनता और कर्क रोग से दूर रखने मे सहायक है | वैज्ञानिको ने ये भी पाया है कि ताँबा एक मुख्य खनिज पदार्थ है जो अवटुग्रन्थि (thyroid gland) को सुचारू रूप से कार्य करने मे सहायता करती है |

सावधानिया

ताम्र पात्र को ज्यादा खुरदुरे पदार्थ से रगड़ कर साफ़ ना करे नहीं तो ताँबे की मात्रा मे क्षरण होगा और जल्द ही पात्र से ताँबा गायब हो जायेगा | आप नींबूं का उपयोग कर सकते है | नींबूं का एक टुकड़ा ले और इसे ठीक से पात्र मे निचोड़कर कुछ देर के लिये छोड़ दे फिर साफ पानी से धो ले | खाने का सोडा एक दूसरा विकल्प है आप इसका भी प्रयोग कर सकते है |

ये याद रख्ने कि हमारा शरीर ताँबा सहज रूप से ग्रहण नहीं कर पाता है इसीलिये इसका अत्यधिक प्रयोग हानिकारक है, फुड आंड ड्रग आड्मिनिस्ट्रेशन (FDA)के अनुसार १२ मिली ग्राम /प्रतिदिन ताँबे की मात्रा हमारे शरीर के लिये पर्याप्त है अतः दिन मे २ से ३ बार ताम्र जल का सेवन शरीर और स्वास्थ्य के लिये उपयुक्त है |

स्वास्थ्य (Health)

Leave a Reply